Menu

 


इसरो के नए प्रक्षेपण अभियान से जुड़ी सात अहम बातें

इसरो के नए प्रक्षेपण अभियान से जुड़ी सात अहम बातेंभारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान पीएसएलवी-सी43 ने श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से 31 उपग्रहों का सफलतापूर्वक प्रक्षेपण किया है। यहां हम आपको बता रहे हैं इस प्रक्षेपण से जुड़ी कुछ अहम बातें।

Read more...

अंतरिक्ष में भारत की तेज धमक की आ रही है आहट

गर्मी के 53 से ज्‍यादा मौसम बीते होंगे जब भारत ने केरल में मछुआरों के एक अनजाने से गांव थुंबा से अमेरिका में बने दो चरणों वाले ‘नाइक-अपाचे’ साउंडिंग राकेट को छोड़कर अंतरिक्ष में पहली बार अपनी उपस्थिति दर्ज की। यह भारत का पहला राकेट था।

Read more...

दक्षिणी एशियाई उपग्रह के सफल प्रक्षेपण से क्षेत्र में भारत की धाक जमी

जीएसएलवी ने दक्षिणी एशियाई उपग्रह का सफल प्रक्षेपण किया

नई दिल्ली : भारत के भूसमकालिक उपग्रह प्रक्षेपण यान (जीएसएलवी-एफ09) ने 2230 किलोग्राम भार वाले दक्षिण एशियाई उपग्रह (जीसेट-9) का शुक्रवार को नियोजित भू-समकालिक हस्तांतरण कक्षा (जीटीओ) में सफल प्रक्षेपण किया। यह जीएसएलवी का 11वां प्रक्षेपण था। 

Read more...

लगातार 36वें सफल मिशन के साथ इसरो शीर्ष की ओर अग्रसर...

अपनी 37वीं उड़ान में (पीएसएलवी-सी35) इसरो के पोलर उपग्रह प्रक्षेपण यान ने सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र एसएचएआर, श्रीहरिकोटा से सात सहयात्री उपग्रहों के साथ 371 किलो के स्‍काटसेट -1, उपग्रह का सफलतापूर्वक प्रक्षेपण किया।

श्रीहरिकोटा : अपनी 37वीं उड़ान में (पीएसएलवी-सी35) इसरो के पोलर उपग्रह प्रक्षेपण यान ने सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र एसएचएआर, श्रीहरिकोटा से सात सहयात्री उपग्रहों के साथ 371 किलो के स्‍काटसेट -1, उपग्रह का सफलतापूर्वक प्रक्षेपण किया। यह पीएसएलवी का लगातार 36वां सफल मिशन है। पीएसएलवी-सी35 के द्वारा ले जाए गए सभी आठ उपग्रहों का कुल वजन 675 किलोग्राम था। पीएसएलवी-सी35 दो अलग अलग कक्षाओं में ऑनबोर्ड ले जाए गए उपग्रहों का प्रक्षेपण करने वाला पहला पीएसएलवी मिशन है। यह मिशन आज तक आयोजित सभी पीएसएलवी मिशनों में सबसे लंबा था और लिफ्ट ऑफ के बाद इसे पूरा करने में 2 घंटे 15 मिनट और 33 सेकंड का समय लगा।

Read more...
Subscribe to this RSS feed

loading...
Bookmaker with best odds http://wbetting.co.uk review site.