Menu

 


ऐसे करें करवा चौथ पर पूजा

ऐसे करें करवा चौथ पर पूजा

ऐसे करें करवा चौथ पर पूजाकरवा चौथ का त्योहार कार्तिक महीने की चतुर्थी को मनाया जाता हैं। इस दिन चन्द्रमा की पूजा होती है। इसे स्त्रियों के सुहाग का त्योहार माना जाता है। इसका व्रत स्त्रियां अपने पति की दीर्घायु के लिए करती हैं। कुछ स्थानों पर पुरुष भी अपनी पत्नी की लंबी उम्र के लिए यह व्रत रखते हैं। 

पूजा विधि के तहत, रसोई में दीवार पर गेरू से पुताई कर ऐपन से करवा चौथ का चित्र बनाते हैं। एक करीआ और लोटा में पानी भरकर रख लेते हैं। चित्र के नीचे पूजा का सब सामान रख लिया जाता है। एक दीपक जलाया जाता है और मिटटी की गौर बनाई जाती है। इसे ऐपन और चावल से पूजते हैं। 

शाम को पूरा श्रृंगार कर पूजा की जाती है। पूड़ी और पूआ बनाए जाते हैं। 11 पूड़ी और 12 मीठे पूआ रखकर उनको पूजा जाता है। चार पूड़ी और चार पूआ गौर के आगे रखते हैं जिसे रात में चन्द्रमा की पूजा करके खाया जाता है। चंद्रमा के दर्शन छलनी में दीपक रखकर किए जाते हैं।

खाने में पूड़ी, पुआ, चावल, बैंगन और मूली की सब्जी, रायता, बेसन की पकौड़ी आदि बनाए जाते हैं। चन्द्रमा की पूजा करके खाना खाया जाता है। इसके बाद बधाई गाई जाती है और अपने से बड़ों के पैर छूए जाते हैं।

back to top

loading...
Bookmaker with best odds http://wbetting.co.uk review site.