Menu

 


इंदिरा गांधी और देशप्रेम की राह

इंदिरा गांधी और देशप्रेम की राहबात तब की है जब इंदिरा गांधी बहुत छोटी बच्ची थीं। उन दिनों देश में विदेशी वस्त्रों के बहिष्कार की लहर थी। जगह-जगह विदेशी वस्त्रों की होली जलाई जा रही थी। घऱ में बड़ों की देखा-देखी उस छोटी सी बच्ची ने भी विदेशी वस्त्र पहनना छोड़ दिया।

Read more...

लाल बहादुर शास्त्री ने ऐसे दिया घोटाला न होने का सबूत

लाल बहादुर शास्त्री ने ऐसे दिया घोटाला न होने का सबूतएक बार राज्यसभा में एक उद्योगपति सदस्य ने शिकायत के लहजे में कहा कि नेहरू स्मारक कोष में जमा किए जा रहे धन के बारे में कई शिकायतें सुनने में आ रही हैं। उन्होंने इसे एक घोटाला करार देते हुए जोरदार शब्दों में इसकी निंदा की और जांच के लिए अपील की।

Read more...

नींव का पत्थर ही बने रहना चाहते थे लाल बहादुर

नींव का पत्थर ही बने रहना चाहते थे लाल बहादुरबात उन दिनों की है जब लालबहादुर शास्त्री ने इलाहाबाद के सार्वजनिक जीवन में प्रवेश किया ही था और जन सेवा का काम बड़ी रुचि के साथ करने लगे थे। वह एक कर्तव्यनिष्ठ स्वयंसेवक थे। अखबारी प्रचार-प्रसार में उनका ज्यादा विश्वास नहीं था।

Read more...

जब रामकृष्ण परमहंस जार-जार रोए

जब रामकृष्ण परमहंस जार-जार रोएस्वामी रामकृष्ण परमहंस करुणा, दया और स्नेह की मूर्ति थे। इसके चलते उनका व्यवहार कभी-कभी बेहद विचित्र जान पड़ता है। एक बानगी देखिए।

Read more...

loading...
Bookmaker with best odds http://wbetting.co.uk review site.