Menu

 


सुभाष बाबू और बापू के बीच वो अंतिम बातचीत

सुभाष बाबू और बापू के बीच वो अंतिम बातचीतसुभाष चंद्र बोस के जीवन का एक ही लक्ष्य था, देश को गुलामी की जंजीरों से आजाद कराना। इसी उद्देश्य को लेकर द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान महात्मा गांधी और उनके बीच हुई एक बातचीत हमारे गौरवशाली इतिहास की धरोहर है।

Read more...

वीर सावरकर और ब्रिटिश सत्ता को उखाड़ फेंकने का संकल्प

वीर सावरकर और ब्रिटिश सत्ता को उखाड़ फेंकने का संकल्पबात उन दिनों की है जब ब्रिटिश हुकूमत ने वीर सावरकर को काला पानी की सजा देकर अंडमान जेल में भेज दिया था। उन्हें 40 साल की सश्रम कारावास की सजा सुनाई गई थी। और, इसके लिए उनके गले में एक पट्टा डाला गया था जिस पर ‘40 साल का कारावास’ लिखा था।

Read more...

नेहरू का जुकाम और खादी का रुमाल

 नेहरू का जुकाम और खादी का रुमालएक बार पंडित मोती लाल नेहरू को तेज जुकाम हो गया। स्वदेशी आंदोलन का दौर था और उस समय महात्मा गांधी के आह्वान पर सभी लोग खादी के प्रयोग को प्राथमिकता दे रहे थे। इसके चलते मोती लाल नेहरू भी खादी का रुमाल प्रयोग में ला रहे थे। खादी का रुमाल चूंकि खुरदरा होता है तो इस वजह से उनकी नाक लाल हो गई थी।

Read more...

जब हैदराबाद के निजाम ने महामना से मांगी माफी

जब हैदराबाद के निजाम ने महामना से मांगी माफीबात उन दिनों की है जब महामना मदन मोहन मालवीय काशी हिंदू विश्वविद्यालय के निर्माण कार्य के लिए दान एकत्र करने के काम में लगे हुए थे। इसी सिलसिले में वह हैदराबाद के तत्कालीन निजाम के पास भी गए। लेकिन, निजाम ने किसी भी तरह की मदद करने से इनकार कर दिया।

Read more...

loading...
Bookmaker with best odds http://wbetting.co.uk review site.