Menu

 


स्‍टैच्‍यू ऑफ यूनिटी : कल्‍पना से परे एक चमत्‍कार

स्‍टैच्‍यू ऑफ यूनिटी : कल्‍पना से परे एक चमत्‍कारमहात्‍मा गांधी का नाम चाहे हमने सुना हो या बोला हो, इससे जुड़ा पहला शब्‍द जो हमारे दिमाग़ में आता है वह है ‘अहिंसा’। उसी तरह जब हम सरदार वल्‍लभभाई पटेल का नाम लेते हैं, तो हमारे दिमाग़ में जो शब्‍द उभरता है, वह है ‘लौह पुरुष’। (Read in English: Statue Of Unity, An Icon Of India)

Read more...

महिला सशक्तिकरण की एक 'नजीर' बनी प्रधानमंत्री ग्रामीण रोजगार योजना

राजस्‍थान के हाड़ौती अंचल में बारां जिले की एक महिला ने कृषि पैदावार के बाद बचे बेकार कचरे एग्रोवेस्‍ट से एग्रोफ्यूल बनाने की एक अच्‍छी शुरुआत की है। इस उद्यम से न केवल उसे धनालाभ हो रहा है कि अपितु आसपास के किसानों को भी कृषि अपशिष्‍टों से अतिरिक्‍त आय होने लगी है। इसके अलावा इस कार्य से डेढ़ दर्जन स्‍थानीय लोगों को भी रोजगार मुहैया हुआ है। अंचल के बारां जिले के पचेल खुर्द गांव की उक्‍त महिला सुनीता मीणा की सफलता की कहानी उन्‍हीं की जुबानी-

Read more...

वेलू नचियार : भारत की जॉन ऑफ आर्क

भारत की स्‍वतंत्रता हर भारतीय का सपना था जो ब्रिटिश शासन के अधीन अपना जीवन जी रहे थे। अंतत: हमें अपने महान स्‍वतंत्रता सेनानी और करोड़ों आम भारतीय लोगों की पीड़ा और त्‍याग के परिणामस्‍वरूप साम्राज्‍यवादी शासन की बेडि़यों से मुक्ति मिली। ऐसे में जब हमारा राष्‍ट्र ऐतिहासिक स्‍वाधीनता संग्राम को याद कर रहा है, महिलाओं के योगदान को याद किए बिना इसका क्रम अधूरा रहेगा।

Read more...

रेवांचल का मुक्ति आन्दोलन और अवंती बाई का आत्मोत्सर्ग

सन् 1857 की क्रांति में रामगढ़ की रानी अवंतीबाई रेवांचल में मुक्ति आंदोलन की सूत्रधार थी। 1857 के मुक्ति आंदोलन में इस राज्य की अहम भूमिका थी, जिससे इतिहास जगत अभी तक अनभिज्ञ है।

Read more...

loading...
Bookmaker with best odds http://wbetting.co.uk review site.