Menu

 


इंदिरा गांधी और देशप्रेम की राह

इंदिरा गांधी और देशप्रेम की राह

इंदिरा गांधी और देशप्रेम की राहबात तब की है जब इंदिरा गांधी बहुत छोटी बच्ची थीं। उन दिनों देश में विदेशी वस्त्रों के बहिष्कार की लहर थी। जगह-जगह विदेशी वस्त्रों की होली जलाई जा रही थी। घऱ में बड़ों की देखा-देखी उस छोटी सी बच्ची ने भी विदेशी वस्त्र पहनना छोड़ दिया।

घर में कोई हमउम्र बच्चा तो था नहीं, तो वह एक प्यारी सी विदेशी गुड़िया को ही अपना दोस्त समझती थीं और उसे सदा अपने पास रखतीं। एक दिन उनके एक रिश्तेदार ने उनसे पूछा कि जब तुम विदेशी कपड़े नहीं पहनती तो फिर विदेशी गुड़िया क्यों अपने पास रखती हो?

बात तो हंसी-मजाक में कही गई थी लेकिन उस बच्ची को यह बात चुभ गई। उसने अपनी प्यारी गुड़िया उठाई और छत पर जाकर उसे जला डाला। उसे ऐसा करने में दुख तो बहुत हुआ क्योंकि एकमात्र गुड़िया ही उसकी साथी थी। फिर भी, उसे संतोष था कि वह देश प्रेम की राह पर बढ़ रही है।

Last modified onMonday, 08 April 2019 11:29
back to top

loading...
Bookmaker with best odds http://wbetting.co.uk review site.