Menu

 


नींव का पत्थर ही बने रहना चाहते थे लाल बहादुर

नींव का पत्थर ही बने रहना चाहते थे लाल बहादुर

नींव का पत्थर ही बने रहना चाहते थे लाल बहादुरबात उन दिनों की है जब लालबहादुर शास्त्री ने इलाहाबाद के सार्वजनिक जीवन में प्रवेश किया ही था और जन सेवा का काम बड़ी रुचि के साथ करने लगे थे। वह एक कर्तव्यनिष्ठ स्वयंसेवक थे। अखबारी प्रचार-प्रसार में उनका ज्यादा विश्वास नहीं था।

एक दिन एक अन्य स्वयंसेवक ने उनसे पूछ ही लिया कि उनको अखबारों में अपना नाम छपवाने से इतना परहेज आखिर क्यों हैं?

शास्त्रीजी ने जवाब दिया कि ताजमहल में दो तरह के पत्थर लगे हैं। एक बढ़िया संगमरमर है जिसके मेहराब और गुबंद बने हैं।दुनिया उन्हीं की प्रशंसा करती है। दूसरे हैं नींव के पत्थर जो कि जमीन में गहरे दबे हुए हैं, जिनकी कोई प्रशंसा नहीं करता है।

इसके बाद गहरी सांस लेकर शास्त्रीजी ने बड़ी विनम्रता से उनसे अपनी मंशा जाहिर करते हुए कहा कि वह उसी नींव का पत्थर ही बने रहना चाहते हैं।

Last modified onFriday, 05 April 2019 20:04
back to top

loading...
Bookmaker with best odds http://wbetting.co.uk review site.