Menu

 


जब एक बंदर ने स्वामी विवेकानंद को दिया जिंदगी का सबक

जब एक बंदर ने स्वामी विवेकानंद को दिया जिंदगी का सबक

जब एक बंदर ने स्वामी विवेकानंद को दिया जिंदगी का सबकएक बार स्वामी विवेकानंद बनारस की गलियों से गुजर रहे थे। तभी, एक बंदर उनके पीछे दौड़ पड़ा और घुड़कने लगा।

बंदर को पीछा करते देख स्वामी जी ने भी दौड़ लगा दी। आदतन, बंदर उनके पीछे और तेज गति से दौड़ा। यह सारा नजारा देख रहे और वहां से गुजर रहे एक साधारण से बुजुर्ग आदमी ने जोर से आवाज लगाकर कहा कि स्वामी जी भागो नहीं, पीछे मुड़कर बंदर का मुकाबला करिए।

स्वामी जी ने रुककर, पीछे मुड़कर बंदर की ओर आक्रामक होकर देखा तो बंदर भाग खड़ा हुआ।

स्वामी विवेकानंद इस घटना का जिक्र करते हुए कहते हैं कि इस घटना ने उनके ऊपर बड़ा असर छोड़ा। विपत्तियां यदि मार्ग में आएं तो उनसे पीछा छुड़ाने के बजाय उनका मुकाबला करना चाहिए। जीवन में सफलता प्राप्त करने का यही सबसे बड़ा मूल मंत्र है।

back to top

loading...
Bookmaker with best odds http://wbetting.co.uk review site.