Menu

 


सुकरात और उनकी पत्नी का ‘प्रेम’

सुकरात और उनकी पत्नी का ‘प्रेम’

सुकरात और उनकी पत्नी का ‘प्रेम’महान दार्शनिक सुकरात अपने व्यक्तिगत जीवन में बेहद कोमल स्वभाव के व्यक्ति थे। इसके ठीक विपरीत उनकी पत्नी अत्यंत ही कर्कशा थीं।

गर्मी के एक दिन वह अपने शिष्यों के साथ घर के बाहर बैठे किसी दार्शनिक चर्चा में व्यस्त थे। इधर, उनकी पत्नी ने किसी काम के लिए उन्हें आवाज लगाई जिसे वह सुन नहीं सके।

कई बार आवाजें देने के बाद भी जब वह चर्चा में से नहीं उठे तो उनकी पत्नी को गुस्सा आ गया और उन्होंने एक घड़ा पानी से भरकर उनके ऊपर डाल दिया।

उनकी पत्नी का यह व्यवहार उनके शिष्यों को ठीक नहीं लगा। सुकरात ने शिष्यों के चेहरों पर आए भाव पढ़कर तुरंत शांत चित्त होकर कहा कि देखा, मेरी पत्नी मेरे प्रति कितनी उदार है। इस भयंकर गर्मी में उसने मेरे ऊपर पानी डालकर मुझे कितनी शीतलता प्रदान की है।

back to top

loading...
Bookmaker with best odds http://wbetting.co.uk review site.