Menu

 


जानिए राष्ट्रीय पुलिस स्मारक के बारे में

जानिए राष्ट्रीय पुलिस स्मारक के बारे में

PM dedicates the National Police Memorial to the nationस्वतंत्रता के बाद से पुलिस जवानों द्वारा दिए गए सर्वोच्च बलिदान के सम्मान में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्र को राष्ट्रीय पुलिस स्मारक समर्पित किया।

ध्यान रहे, साल 1959 में चीनी सैनिकों द्वारा लद्दाख में में मारे गए पुलिस जवानों की याद में प्रत्येक वर्ष 21 अक्टूबर को पुलिस स्मारक दिवस मनाया जाता है।

Read in English: PM dedicates the National Police Memorial to the nation

जानिए इस स्मारक की खास बातें...

1. इस स्मारक का निर्माण शांतिपथ के उत्तरी छोर पर चाणक्यपुरी में 12 एकड़ भूमि पर किया गया है।

2. यह पुलिस स्मारक सभी राज्य और केन्द्र शासित प्रदेश पुलिस बलों एवं केन्द्रीय पुलिस संगठनों का प्रतिनिधितत्व करता है।

3. साल 1947 से अभी तक 34,844 पुलिस जवान शहीद हो चुके हैं जिनमें 424 पुलिस जवानों ने इसी वर्ष अपनी शहादत दी है। इनमें से कई बहादुर जवानों ने कश्मीर, पंजाब, असम, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम जैसे विभिन्न क्षेत्रों एवं देश के वाम चरमपंथ क्षेत्रों में आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में अपनी जानें गवाईं हैं। इसके अतिरिक्त, एक बड़ी संख्या में पुलिस के जवान अपराध रोकने एवं कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने में भी शहीद हुए हैं।

4. स्मारक ग्रेनाइट के एक टुकड़े से बनी केंद्रीय प्रस्तर प्रतिमा है जो 30 फीट ऊंचा पत्थर का खंभा है। इसका वजन 238 टन है। इसका वजन और रंग सर्वोच्च बलिदान की गंभीरता का प्रतीक है।

5. सभी शहीद 34,844 पुलिस जवानों के नाम शूरता की दीवार पर पर अंकित हैं।

6. परिसर में एक पुलिस संग्रहालय भी है। इसमें वे सभी कलाकृतियां और अभिलेख मौजूद हैं जिन्होंने भारतीय पुलिस के इतिहास को आकार दिया।

Last modified onMonday, 22 October 2018 10:16
back to top

loading...
Bookmaker with best odds http://wbetting.co.uk review site.