Menu

 


प्‍याज की कीमतों ने उड़ाई सरकार की नींद

प्‍याज की कीमतों ने उड़ाई सरकार की नींद

प्‍याज की कीमतों ने उड़ाई सरकार की नींदबीते अक्टूबर माह के दौरान प्याज की कीमतों में आए बड़े उतार-चढ़ावों ने सरकार की नींद उड़ा दी है।

इसके चलते, उपभोक्‍ता मामलों के विभाग ने एक उच्‍चस्‍तरीय बैठक के दौरान दिल्‍ली में प्‍याज की कीमत एवं उपलब्‍धता की समीक्षा की।

समीक्षा के दौरान पाया गया कि अक्‍टूबर माह के मध्‍य में प्‍याज के थोक दाम बढ़कर नई ऊंचाई पर पहुंच गए थे। हालांकि, अब ये थोड़े नीचे आ गए हैं। थोक मूल्‍य में कमी के रुख को बनाए रखने के लिए मूल्‍य स्थिरीकरण कोष के तहत सृजित वर्तमान बफर स्‍टॉक से दिल्‍ली में प्‍याज की दैनिक आपूर्ति अब और ज्‍यादा बढ़ाने का निर्णय लिया गया है।

बैठक के दौरान दिल्‍ली में प्‍याज के थोक एवं खुदरा मूल्‍यों में अंतर कम करने के उपायों पर भी विचार किया गया। इस संदर्भ में दिल्‍ली सरकार को साल 2015 में प्‍याज के मूल्‍यों में भारी वृद्धि के दौरान उठाए गए कदम की तर्ज पर ही इस बार भी अपने सार्वजनिक वितरण केन्‍द्रों के जरिए प्‍याज की आपूर्ति करने की सलाह दी गई है। दिल्‍ली में प्‍याज की कीमतों पर करीबी नजर रखी जाएगी और इसका दाम निरंतर बढ़ने पर दिल्‍ली सरकार बाजार में समुचित कदम उठाने पर विचार करेगी।

सफल और मदर डेयरी को भी अपने खुदरा विक्रय केन्‍द्रों के जरिए प्‍याज की आपूर्ति बढ़ाने का निर्देश दिया गया है। बफर स्‍टॉक से बड़ी मात्रा में प्‍याज इन केन्‍द्रों को उपलब्‍ध कराया जाएगा।

बागवानी प्रभाग द्वारा यह संकेत दिया गया है कि खरीफ की प्‍याज फसल का बुवाई क्षेत्र वर्ष 2017 की तुलना में 37 प्रतिशत बढ़ा है। इससे बाजार में प्‍याज की आपूर्ति बढ़ेगी। जल्दी ही राजस्‍थान, शोलापुर, हुबली और करनूल में नई फसल की आवक शुरू हो जाएगी। इससे प्‍याज की ज्‍यादा खपत वाले क्षेत्रों में इसकी उपलब्‍धता बढ़ जाएगी और आने वाले दिनों में इससे कीमतों को नीचे लाने में मदद मिलेगी।

back to top

loading...
Bookmaker with best odds http://wbetting.co.uk review site.