Logo
Print this page

सादगी को कमजोरी न समझें Featured

उदारीकरण, निजीकरण और वैश्वीकरण के दौर में आज हर आदमी स्कैनर के अंदर है। आप अपने लैपटॉप पर गूगल में अपना घर देख सकते हैं। इसने हमारी जिंदगी को और ज्यादा उलझा दिया है और हम इस बड़े बाजार में खो-से गए हैं।

 

{googleAds}

<div style="float:left">


<!-- BEGIN JS TAG - agratoday_RevShare_Banner_300X250 < - DO NOT MODIFY -->
<SCRIPT SRC="http://ads.ozonemedia.com/ttj?id=1230418&cb=[CACHEBUSTER]&pubclick=[INSERT_CLICK_TAG]" TYPE="text/javascript"></SCRIPT>
<!-- END TAG -->

</div>
{/googleAds} सादगी और सहजता किसी सफल इंसान की बहुत बड़ी खासियत होती है। ज्यादातर लोग इसमें विश्वास करते हैं। दुनिया के धनी व्यक्ति वारेन बफे आज भी अपने पुराने घर में रहते हैं और पुरानी कार पर चलते हैं, जबकि वह करोड़ों रुपये हर साल दान करते हैं। बिल गेट्स ने अपने बेटे को डिजाइनर लैपटॉप का इस्तेमाल करने की अनुमति नहीं दी।

सादगी का मतलब कमजोरी से कतई नहीं लगाया जा सकता बल्कि यह आपके चरित्र को और निष्ठा को दर्शाती है। सादा व सरल व्यक्ति न केवल अपने, बल्कि दूसरों के लिए भी आदर्श प्रस्तुत करता है। उसके आचरण से दूसरे भी प्रेरित होते हैं।

एक पुरुष व महिला एक खिड़की के पास बैठे थे। महिला उस पुरुष से बोली, "मैं तुमसे प्रेम करती हूं। तुम दिखने में सुंदर हो, धनी हो और हमेशा अच्छे कपड़े पहनते हो।"

बदले में पुरुष ने भी कहा, "मैं भी तुमसे प्रेम करता हूं। तुम बहुत खूबसूरत हो, ईश्वर ने फुर्सत में बनाया है तुम्हें, तुम मेरे सपनों का संगीत हो।" महिला का चेहरा गुस्से से लाल हो गया। वह बोली, "कृपया, आप मुझे अकेला छोड़ दें। मैं कोई दृश्य नहीं जो आपके सपनों में आऊं। मैं एक महिला हूं और एक पत्नी की तरह आपसे प्रेम चाहती हूं।" इसके बाद दोनों जुदा हो गए।

पुरुष ने कहा, "चलो, दूसरा सपना देखते हैं।" महिला ने क्रोधित होते हुए कहा, "मैं ऐसे इंसान को पसंद नहीं करती जो मुझे सपनों और खूबसूरत दृश्य की तरह देखता हो।"

ज्यादा सरल और सादा होना भी मुसीबत पैदा करता है। इस कहानी में दोनों सौम्य हैं, पर व्यावहारिक बिल्कुल नहीं। आपको ऐसी स्थितियों से बचना चाहिए। एक समय आता है जब आपको कोई न कोई फैसला जरूर लेना पड़ता। आपको कभी भी कर्कश शब्दों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए लेकिन अपने कार्य के प्रति समर्पित रहना चाहिए। इंसान दृढ़ फैसला नहीं लेता, बल्कि मजबूत फैसले ही इंसान को दृढ़ बनाते हैं।

सफल लोग जिंदगी को वरदान की तरह जीते हैं। वह हर सैकेंड जिंदगी का लुत्फ उठाते हैं। वह हर हाल में खुश रहना चाहते हैं। व्यर्थ की बातों में वे समय नहीं गंवाते। वे अपने विचारों पर स्वयं तो अडिग रहते ही हैं, साथ ही दूसरों को भी नए विचारों से लाभ उठाने की सलाह देते हैं।

किसी भी आदमी को सफल बनाने में उसका व्यवहार बहुत मायने रखता है। एक तनावग्रस्त आदमी को सफलता देरी से मिलती है, जबकि सरल रहने की स्थिति में सफलता जल्द मिलने की उम्मीद होती है। यह उसके सकारात्मक नजरिए को दर्शाता है।

इस शहर के एक बड़े संस्थान से इस्तीफा देने के बाद मैंने जो दूसरा संस्थान ज्वाइन की, वह पहले वाले से काफी छोटा था। काम भी बहुत कम था। एक महीने के भीतर खुद को 'सैटल' करते हुए मैंने नतीजा देना शुरू कर दिया। अब मैं अक्सर अपने मेल चेक करने के अलावा बाकी समय में खाली बैठा रहता। समय का सदुपयोग करना अब समस्या बन रही थी। मैं कभी खाली नहीं बैठा रह सकता।

मैंने खाली समय को उपयोग में लाने का एक सटीक तरीका खोज निकाला। मैंने अपने तजुर्बो और विचारों को लिखकर एक किताब की शक्ल दी लेकिन शुरुआत में मैंने कभी प्रकाशन कार्य के बारे में नहीं सोचा था।

आप यकीन मानिए, जब मेरी एक भी किताब नहीं छपी थी तब भी मैं निराश नहीं था। आज मेरी लिखी पांचवीं किताब आपके हाथ में है और मैं हर उस व्यक्ति का शुक्रिया अदा करना चाहूंगा जिसने प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तौर पर मुझे सफल बनाने में योगदान दिया है। सफलता की राहें कभी बंद नहीं होतीं। लेकिन आपको परिवर्तन के लिए बिल्कुल तैयार रहना होगा। यही नियम है।

(डायमंड पॉकेट बुक्स प्रा.लि. नई दिल्ली से प्रकाशित पुस्तक 'खुद बदलें अपनी किस्मत' से साभार)

Last modified onMonday, 28 April 2014 14:49

Related items

Developed By Rajat Varshney | Conceptualized By Dharmendra Kumar | Powered By Mediabharti Web Solutions | Copyright © 2018 Mediabharti.in.