Menu

 

English Edition

यमुना के लिए आगे आए वृंदावन के भक्त Featured

वृंदावन (भारत): यमुना नदी में उचित मात्रा में जल प्रवाह को सुनिश्चित करने के उद्देश्य से कार्यकर्ताओं और वृंदावन के साधुओं ने अभियान चलाया है।

इस अभियान के मुख्य आयोजक ब्रजराज शरण बाबाजी ने कहा, "उच्चतम न्यायालय ने नदी में उचित जल प्रवाह को सुनिश्चित करने और जलीय जीवन को सुरक्षित करने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार को निर्देश दिया था ताकि श्रद्धालु पवित्र त्योहारों के समय नदी में स्नान कर सकें।"

'ब्रिंग यमुना बैक टू व्रज वृंदावन' के नाम से एक महीने का आंदोलन पिछले सप्ताह नवरात्र के त्योहारों के दौरान आरम्भ हो गया।

बाबाजी ने कहा, "विधानसभा चुनाव के पहले हम अपनी पवित्र नदी और अन्य जल निकायों की गिरी हालत को सुधारने की जरूरतों पर बल देंगे और इस मसले पर सभी राजनीतिक पार्टियों को संवेदनशील बनाना चाहते हैं।" पर्यावरणविद रवि सिंह का कहना है कि यमुना का तल पहले से ही सूख चुका है। उन्होंने कहा, "मानसून के तुरंत बाद भी इस साल नदी सूखी हुई है और लोगों को पानी की कमी महसूस हो रही है। किसी को भी आश्चर्य हो सकता है कि आने वाले महीनों में क्या होगा है।"

वृंदावन में कृष्ण बलराम मंदिर के इस्कान (इंटरनेशनल सोसायटी फॉर कृष्णा कांशियसनेस) केंद्र का इस आंदोलन के पीछे अहम भूमिका है।

आंदोलनकर्ताओं का कहना है कि दिल्ली में बड़ी संख्या में लोगों का भार इस नदी पर होने से खतरा बढ़ गया है।

बाबाजी ने कहा, "दिल्ली आने के पहले ही इस नदी का करीब 97 प्रतिशत पानी हथिनी कुंड के माध्यम से नहरों और बांधों में बंट जाता है। दिल्ली में जो पानी बहता है उसमें नाले का पानी, कचरा और औद्योगिक इकाइयों का कचरा होता है।"

back to top

loading...
Bookmaker with best odds http://wbetting.co.uk review site.