Menu

 

English Edition

बच्चे-बड़ों के बीच 'अंतर' करना सीखेंगे डॉक्टर और अभिभावक

किशोर (एडोलिसेन्ट) आखिर बच्चे हैं या बड़े? कभी उन्हें अभिभावक बड़ा कहकर उनकी गलतियों पर डांट लगा देते हैं तो कभी कोई निर्णय लेने पर बच्चा कहकर कौने में बैठा दिया जाता है।

आगरा : किशोर (एडोलिसेन्ट) आखिर बच्चे हैं या बड़े? कभी उन्हें अभिभावक बड़ा कहकर उनकी गलतियों पर डांट लगा देते हैं तो कभी कोई निर्णय लेने पर बच्चा कहकर कौने में बैठा दिया जाता है। कुछ वर्ष पूर्व तक किशोरों (एडोलिसेन्ट) को कई बार पीडिएट्रिक (बच्चों के डॉक्टर) उन्हें फिजिशियन के पास जाने की सलाह देते हैं और फिजिशियन, पिडिएट्रिक के पास। मानसिक और शारीरिक रूप से हो रहे परिवर्तन को महसूस कर रहे यह बच्चे आखिर अपनी समस्या और सवालों को लेकर किसके पास जाएं? उनके खान-पान, मानसिक स्वास्थ्य, स्कूल प्रोबलम, इंटरनेट से सम्बंधिक समस्याओं को कैसे हल किया जाए। बाल रोग विशेषज्ञ अब किशोरों की देखभाल करेंगे। एमसीआई ने इसे उनके पाठ्यक्रम में भी शामिल कर दिया है।

किशोरों की इन समस्याओं का समाधान डॉक्टर किशोरों, टीचर और अभिभावकों के बीच ही जाकर करेंगे। साथ ही डॉक्टरों को भी इस बात की ट्रेनिंग दी जाएगी कि इस खास उम्र (9-19 वर्ष) में किशोरों की काउंसलिंग कैसे की जाए। एडोलिसेन्ट हेल्थ एकेडमी व इंडियन पीडिएट्रिक एसोसिएशन द्वारा किशोरों (9-19 वर्ष की समस्याओं पर) पर तीन दिवसीय राष्ट्रीय कांफ्रेंस का आयोजन फतेहाबाद रोड स्थित होटल फोर प्वाइंट में किया जा रहा है। इसकी थीम है एम्पावरिंग एडोलिसेन्ट। यानी किशोरों की स्वायित्ता। कार्यशाला में देशभर के लगभग 400 बाल रोग विशेषज्ञ भाग लेंगे। किशोरों की समस्याओं और बीमारियों से सम्बंधिक 20 रिसर्च पेपर प्रिजेन्ट किए जाएंगे। यह जानकारी आईएमए भवन आगरा में कांफ्रेंस के ब्रोचर रिलीज कार्यक्रम में कांफ्रेंस के चेयरपर्सन डॉ. एनसी प्रजापित ने दी।

कांफ्रेंस के आयोजक सचिव डॉ. आरएन शर्मा व डॉ. सुनील अग्रवाल ने बताया कि कांफ्रेंस का उद्घाटन 17 सितम्बर को डॉ. सुषमा दुरेजा (डिप्टी कमिश्नर एडोलिसेन्ट हेल्थ भारत सरकार) करेंगी। विशिष्ट अतिथि डॉ. वीएन त्रिपाठी (महानिदेशक चिकित्सा शिक्षाउप्र सरकार) होंगे। कार्यक्रम के आयोजक सदस्य डॉ. राजीव कृषक, डॉ. राजीव द्विवेदी, डॉ. दीप्ति, डॉ. योगेश दीक्षित, डॉ. राहुल पैंगोरिया, डॉ. पंकज कुमार, डॉ. राजेश कुमार, डॉ. राजीव जैन, डॉ. मनोज जैन, डॉ. जेएन टंडन, डॉ. प्रदीप चावला आदि मौजूद थे।

Last modified onMonday, 12 September 2016 19:55
back to top

loading...
Bookmaker with best odds http://wbetting.co.uk review site.