Menu

 


ग्रामीण स्‍वच्‍छता कवरेज हुआ 85 फीसदी से अधिक

ग्रामीण स्‍वच्‍छता कवरेज हुआ 85 फीसदी से अधिकनई दिल्ली : स्‍वच्‍छ भारत मिशन के अंतर्गत भारत का ग्रामीण स्‍वच्‍छता कवरेज बढ़कर 85 प्रतिशत हो गया है। ग्रामीण समुदायों को सक्रिय बनाने के कारण ग्रामीण भारत में 7.4 करोड़ शौचालय बनाए गए जिसके परिणामस्‍वरूप 3.8 लाख से अधिक गांव और 391 जिले खुले में शौच से मुक्‍त घोषित किए गए हैं।

Read more...

‘स्वच्छ भारत’ ही होगा गांधी को जन्मदिन का गिफ्ट

सार्वजनिक स्‍वच्‍छता एक ऐसा विषय था, जिसके बारे में महात्‍मा गांधीजी की जीवन पर्यन्‍त गहरी दिलचस्‍पी रही। गांधीजी ने भारतीयों को स्‍वच्‍छता के महत्‍व के बारे में प्रेरित करने के लिए अपने जीवन का महत्‍वपूर्ण समय समर्पित किया और इस महत्‍वपूर्ण मुद्दे की ओर राष्‍ट्र की चेतना को जगाने का प्रयास किया। यह बहुत महत्‍वपूर्ण है कि गांधीजी का प्रकाशित साहित्‍य पूरी तरह सार्वजनिक स्‍वच्‍छता के मुद्दे की ओर महत्‍वपूर्ण ध्‍यान देने के लिए समर्पित है। इसमें सत्याग्रह, अहिंसा और खादी पर समान रूप से ध्‍यान केन्द्रित किया गया है।

Read more...

इंदौर भारत के सबसे स्वच्छ शहर के रूप में उभरा, गोंडा सबसे गंदा

नई दिल्ली : स्वच्छ सर्वेक्षण-2017 में इंदौर भारत का सबसे स्वच्छ शहर बनके उभरा है जबकि उत्तर प्रदेश का शहर गोंडा सबसे गंदा।

Read more...

‘ई गंगा में तो नहा लिया, क्यां न क्यां’

स्वच्छ भारत मिशन- जयपुर जिले में अनूठा नवाचार

राजस्थान के जयपुर जिले में ‘स्वच्छ भारत मिशन‘ के तहत खुले में शौच से मुक्ति के लिए अपनाए गए तरीकों को विश्व बैंक की टीम ने सराहा है। ग्राम पंचायतों को खुले में शौच से मुक्त कराने की दिशा में स्कूली बच्चों का भी साथ मिला है। 

Read more...

स्वच्छ भारत मिशन : अभी बहुत कुछ करना है बाकी...

स्वच्छ भारत मिशन : अभी बहुत कुछ है बाकी...

महात्मा गांधी के दक्षिण अफ्रीका में बिताए वर्षों में दो घटनाएं साफ तौर पर प्रभावित करती हैं। पहली, वह नस्लीय भेदभाव जिसका उन्हें ट्रेन के प्रथम श्रेणी के डिब्बे में सामना करना पड़ा, जब उन्‍हें एक असभ्य यूरोपियन नागरिक द्वारा उनके सवालों से तंग आकर पीटरमैरिट्सबर्ग स्टेशन पर ट्रेन से बाहर फेंक दिया गया था। (Read in English)

Read more...

स्वच्छ भारत अभियान में अक्षय कुमार ने की भागीदारी

अक्षय कुमार

मथुरा : स्‍वच्‍छ भारत के चैम्पियन सरपंचों और कलेक्‍टरों के आयोजित दो दिवसीय स्‍वच्‍छता सम्‍मेलन को संबोधित करते हुए बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार ने कहा कि जब उन्‍हें स्‍वच्‍छता चैम्पियनों को संबोधित करने का निमंत्रण मिला तो उन्‍होंने बिना हिचक इसे स्‍वीकार करने में एक क्षण भी नहीं लगाया। 

Read more...

हिमाचल प्रदेश खुले में शौच से मुक्त दूसरा राज्य बना

हिमाचल प्रदेश खुले में शौच से मुक्त दूसरा राज्य बना

शिमला : हिमाचल प्रदेश खुले में शौच से मुक्त देश का दूसरा राज्य घोषित किया गया है। इससे पहले, सिक्किम को खुले में शोच से मुक्त पहला राज्य घोषित किया गया था। 

Read more...

सतत विकास और स्वच्छता की संस्कृति में संतुलन जरूरी

स्वच्छता और शौचालय क्रांति की शुरुआत बेशक महात्मा गांधी जी ने की लेकिन यह दुर्भाग्य रहा कि लंबे अंतराल के बाद भी भारत में स्‍वच्‍छता की संस्‍कृति जन-जन तक पैठ नहीं बना सकी।

स्वच्छता और शौचालय क्रांति की शुरुआत बेशक महात्मा गांधी जी ने की लेकिन यह दुर्भाग्य रहा कि लंबे अंतराल के बाद भी भारत में स्‍वच्‍छता की संस्‍कृति जन-जन तक पैठ नहीं बना सकी। इसलिए आज भी देश को पूरी तरह स्वच्छ और खुले में शौच से मुक्त नहीं किया जा सका है। 

Read more...

‘स्वच्छ भारत’ अब सपना नहीं...

ऐसे अनेक उदाहरण हैं जहां लड़कियों ने ऐसे घरों में शादी करने से मना कर दिया जहां शौचालय नहीं बने थे। इन सभी मामलों में महिलाएं ही आत्‍मसम्‍मान को कायम रखने के लिए नई भावना को जागृत करने में आगे रही हैं।

-महाराष्‍ट्र के वाशिम जिले के साईखेड़ा गांव की रहने वाली संगीता अहवाले ने अपने घर में शौचालय का निर्माण करवाने के लिए अपना मंगलसूत्र तक बेच दिया। 

-छत्‍तीसगढ़ जिले के धमतारी जिले में स्थित कोटाभारी गांव की 104 वर्ष आयु की वृद्धा कुंवर बाई ने अपने घर में शौचालय बनवाने के लिए अपनी ब‍करियां बेच दीं। 

-कोलारस ब्‍लॉक के गोपालपुरा गांव की आदिवासी नववधू प्रियंका अपनी ससुराल के घर में शौचालय न होने के कारण अपने माता-पिता के घर लौट आई। 

-आंध्रप्रदेश के गुंटुर जिले की एक मुस्लिम महिला ने अपनी नई पुत्रवधू को एक शौचालय उपहार में दिया। 

-स्‍कूल की छात्रा लावण्‍या तब तक भूख हड़ताल पर बैठी रही जब तक कर्नाटक स्थित उनके गांव हालनहल्‍ली के सभी 80 परिवारों में शौचालयों का निर्माण नहीं हो गया। 

स्‍वच्‍छ भारत की दिशा में आए बदलाव के इस भारी परिवर्तन की ये कुछ झलकियां ही हैं...

Read more...

साफ-सफाई सिर्फ ‘सरकारी’ काम नहीं, ‘स्वैच्छिक’ भी...

साफ-सफाई सिर्फ ‘सरकारी’ काम नहीं, ‘स्वैच्छिक’ भी...

स्वच्छ भारत यानी स्वस्थ भारत इसी सोच के साथ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 2 अक्टूबर 2014 को महात्मा गांधी की जयंती के अवसर पर स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की। तब उन्होंने देश के प्रत्येक नागरिक से अपील की थी कि इसे जुड़कर मुहिम को सफल बनाए। आज इस मुहिम से न सिर्फ देश के बड़ी हस्तियां जुड़ रही हैं बल्कि समाज के कई वर्ग के लोग भी इस से जुड़ने लगे हैं। 

Read more...
Subscribe to this RSS feed

loading...
Bookmaker with best odds http://wbetting.co.uk review site.