Menu

 


मानसून मौसम वर्षा के औसतन 98 फीसदी रहने का अनुमान

मानसून मौसम वर्षा के लंबी अवधि औसत के 98% रहने का अनुमाननई दिल्ली : भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने दक्षिण-पश्चिमी मानसून के दूसरे चरण का पूर्वानुमान जारी किया है। विभाग ने भविष्यवाणी की है कि कुल मिलाकर, पूरे देश में दक्षिण-पश्चिमी मानसून लंबी अवधि औसत (एलपीए अर्थात 50 वर्षो का औसत) का 98% रह सकता है जिसमें 4% की कमी–बढ़ोतरी भी हो सकती है।

दक्षिण-पश्चिमी मानसून मौसम 2017 (जून से सितंबर) के कुल मिलाकर सामान्य (लंबी अवधि औसत) के 96% से 104% रहने की उम्मीद है।

मात्रा के लिहाज से, मानसून की वर्षा के एलपीए का लगभग 98% रहने की उम्मीद है जिसमें 4% की कमी–बढ़ोतरी हो सकती है ।

क्षेत्र के हिसाब से, मौसमी वर्षा के उत्तर-पश्चिमी भारत में 96%, मध्य भारत में 100%, दक्षिण पठारी क्षेत्र मे 99% एवं पूर्वोत्तर भारत में 96% रहने की उम्मीद है।

आईएमडी ने 18 अप्रैल को देशभर के लिए संचालनगत दक्षिण पश्चिमी मानसून मौसम (जून से सितंबर) की वर्षा के लिए प्रथम चरण दीर्घ अवधि पूर्वानुमान जारी किया था।

Last modified onWednesday, 07 June 2017 14:51
back to top

loading...
Bookmaker with best odds http://wbetting.co.uk review site.